Archive for the ‘चीन अन्य और पाक’ Category

26/11 ke shaheedon ko naman…

नवम्बर 27, 2010
कमलेश भगवती प्रसाद वर्मा

आज फिर याद जहन में २६/११ का मंजर आया ,
करने छलनी सीना सरहद पार से खंजर आया ।

बीती थी इक सुहानी रात नव प्रभात फूटा था ,
मुंबई की उस सुबह को वहसी- दरिंदों ने लूटा था ।

बे-गुनाह निहत्थे लोगों पर पिशाचो ने वार किया ,
हेमंत,सलास्कर ,आप्टे जैसे सपूतों को मार दिया ।

लहू उबल जाता है ,दिल भी भर आता है ?….
इतने बड़े देश में कोई कैसे ये कर जाता है ।

कितने दिनों तक प्रेम निमन्त्रण इनको बांटे जायेंगे ,
कब तक ?ये हत्यारे हिंदुस्तान की बिरयानी खायेंगे ॥?

सदा न्याय मिले सबको, कोई कब क्या कहता है ,
इस दरिन्दे[कसाब} की खातिर क्या कोई सबूत रहता है ।

वक्त आ गया है इन दुष्टों की जड़ को खत्म करो ॥!
बन भश्मासुर इनके शिविरों को बमों से भस्म करो ।

तब तक ये कुत्ते की ”पाक -पूंछ ”नही कभी सीधी होगी ,
जब तक नही ”ब्रह्मोस ”की जद में पूरी पाक परिधि होगी ।

”कमलेश ” नमन उन शहीदों को जो देश पर कुर्बान गए ,
अब भी जागो देश वासियों यह करते वो आह्वान गए ………!!

Advertisements

चीन अन्य और पाक

सितम्बर 15, 2009

जिस तरह के हालत बने हैं अब ,

आकाओं की इस देश की

आँख खुलेगी कब,।

गिद्ध दृष्ट से ताकते ,चीन अन्य और पाक

भारत माँ के पल्लू को खीचने की ताक,

कब सहेगा आख़िर ,भारत इनकी की करतूतों को ,
वार्ता -शार्ता से न आए अक्ल ,इन लातों के भूतों को

सबक सिखाना होगा बनी ,
जो चौकडी -चांडालों की ,

आग लगो दो इनकी दुनिया में ,
बसा जो रखी ख्यालों की।

,नही चलेगी अब ६२ वाली गद्दारी ,
बदले’ एक ‘के इक्यावन ,मोड़ने की अब बारी,।

ज्यादा धैर्यवान होना ,निर्बलता दर्शाता है ,
<strong
>कमलेश ‘तभी तो हर कोई आँख दिखाता है ॥

आने वाली है वह घड़ी ..!!

सितम्बर 14, 2009

26

आने वाली है वह घड़ी ,जिसकी नही नेताओं को पड़ी ,,

जब ड्रैगन उपर चढ़ दहाडेगा ,भारत माँ का आंचल फाडेगा ,

दुहरायी जायेगी क्या ,सन ६२ की गाथा

बाद में ये हम फ़िर पीटेंगेअपना माथा .,

उससे पहले होश करो ,चीनियों को खामोश करो ,

अंदर से भी खतरा है ,बाहर भी सन्नाटा पसरा है ,

समझो दो इस पडोसी को ,कुछ समझे इस खामोसी को ,,

बहुत बन लिए हम महान ,अब खोलो इनके कान ,

‘कमलेश’इनकी है भाषा ,खीच के मारो इसके तमाचा ॥